भैरव नाथ के गुप्त मंत्र के बारे मे जाने

आप नही जानते होंग अघोरी किस्को अपनाता है
November 29, 2017
श्रीहनुमत्ताण्डवस्तोत्रम्
November 29, 2017

भैरव नाथ के गुप्त मंत्र के बारे मे जाने

भैरव शिव जी के ही रूद्र अवतार है। इनका अवतार आवश्क्ता के अनुसार भगवान शिव के अंश से हुआ है ।

इनका अवतार अहंकार और असत्य को दूर करने के लिये हुअ है। ज्यादतर मनुष्य इन्हे रूद्र उग्र दिव्ता के रूप मे मानते है। इनका एक बहुत प्यारा रूप बटुक भैरव का भी है । भैरव कि 8 रूप है जिनमें से बटुक भैरव 14 या 15 साल के बालक का है।

जानते है उनके गुप्त मंत्र जो आपकी सभी मनोकामना पुरी करेगा।

भैरव की प्रसन्नता के लिए

श्री बटुक भैरव मूल मंत्र

का पाठ करना शुभ होता है।

विपदा नाशक मंत्र

मूल मंत्र : ॐ ह्रीं बटुकाय आपदुद्धारणाय कुरू कुरू बटुकाय ह्रीं’।

मनोकामना पूरक मंत्र :

ॐ नमो भैरवाय स्वाहा

 

पाप विनोचक मंत्र :

ॐ ह्रीं बटुक ! शापम विमोचय विमोचय ह्रीं कलीं !!

मंगल दोष दूर करने के लिए भैरवजी का सिद्ध मंत्र

धर्मध्वजं शङ्कररूपमेकं शरण्यमित्थं भुवनेषु सिद्धम्!!

द्विजेन्द्र पूज्यं विमलं त्रिनेत्रं श्री भैरवं तं शरणं प्रपद्ये!!!!

 

अन्य भैरव मंत्र :

ॐ भयहरणं च भैरव:

ॐ हं षं नं गं कं सं खं महाकाल भैरवाय नम:।

ॐ भ्रां कालभैरवाय फट्‍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *