November 24, 2017

Ek Anokhi Kahani

भूत प्रेतों पर यकीन नहीं करने वाले भी सोच में पड़ जाएंगे कुछ लोग मानते हैं कि भूत-प्रतों की भी अपनी दुनिया है और कभी-कभी यह […]
November 23, 2017

विष्णु के श्वसुर महर्षि भृगु और उनके वंश को जानिए 2

दूसरा विरोधाभाष : पुराणों में विरोधाभाषिक उल्लेख के कारण यह फर्क कर पाना कठिन है कि कितने भृगु थे या कि एक ही भृगु थे। माना जाता […]
November 23, 2017

विष्णु के श्वसुर महर्षि भृगु और उनके वंश को जानिए

यदि हम ब्रह्मा के मानस पुत्र भृगु की बात करें तो वे आज से लगभग 9,400 वर्ष पूर्व हुए थे। इनके बड़े भाई का नाम अंगिरा […]
November 23, 2017

कृष्ण ने राधा से क्यों नहीं किया था विवाह!

भगवान विष्णु जी अवतार लेते रहते थे इस कारण उनकी पत्नी देवी लक्ष्मी जी की भी इच्छा हुई कि वह भी भगवान विष्णु जी के साथ […]
November 23, 2017

भीम क्यों जला देना चाहते थे युधिष्ठिर के दोनों हाथ?

भीम और युधिष्ठिर | महाभारत के प्रमुख पात्र भीम, अर्जुन, नकुल व सहदेव अपने बड़े भाई युधिष्ठिर का बहुत आदर करते थे। युधिष्ठिर जो आज्ञा देते, उनके […]

भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है।

अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में मुख्य रूप से भगवान शिव की पूजा का विधान है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पूजा के दो तरीके बताए गए हैं पहला है सात्विक व दूसरा तामसिक। सात्विक पूजा के अंतर्गत भगवान शिव की पूजा फल, फूल, जल आदि से की जाती है। वहीं तामसिक पूजा के अंतर्गत तंत्र-मंत्र आदि से शिव को प्रसन्न किया जाता है।

PARANORMAL