March 26, 2019

भारतीय संविधान के बारे में 18 रोचक तथ्य । Indian Constitution in Hindi

Amazing Facts about Indian Constitution in Hindi – भारतीय संविधान के बारे में 18 रोचक तथ्यContents 1 Amazing Facts about Indian Constitution in Hindi – भारतीय संविधान के बारे में 18 रोचक तथ्य1.0.1 भारत से जुड़े ये अन्य Facts भी पढ़े: भारत का संविधान देश में सबसे उच्चा पद भारतीय संविधान का है। सरकार, सुप्रीम कोर्ट, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री कोई भी इससे ऊपर नही है। सब इसके दायरे में रहकर काम कर रहे है। 1. भारत का संविधान एक हाथ से लिखा गया दस्तावेज है, ना कि मशीन से। इसे “प्रेम बिहारी नारायण रायजादा” ने अपने हाथों से इटैलिक स्टाइल में लिखा था और इसके हर पन्ने को शांतिनिकेतन के दो कलाकार “बेवहार राममनोहर सिन्हा” और “नंदलाल बोस” ने अपने हाथों से सजाया था। 2. भारतीय संविधान विश्व का सबसे लंबा लिखित संविधान है। यह 25 भागों में बंटा हुआ है, जिसमें 448 आर्टिकल्स और 12 schedules है। इसके अंग्रेज़ी संस्करण में कुल 117,369 शब्द हैं, जिन्हें लिखने में कुल 254 पेन निब्स का इस्तेमाल हुआ था और 6 महीने का समय लगा था। इस पूरे कार्य पर लगभग ₹6.3 करोड़ खर्च हुए थे। 3. संविधान के अंग्रेज़ी और हिंदी संस्..
March 26, 2019

Gora Hone ke Upay । चेहरा गोरा होने के उपाय

Home remedies Gora Hone ke Gharelu Upay – चेहरा गोरा होने के उपाय एक बात तो पक्की हैं कि दुनिया में कोई क्रीम रंग गोरा नही करती. जो त्वचा आपको मिली है उसी को स्वस्थ और आकर्षक बनाने के जतन करिए. बाजार की क्रीमों में ब्लीच होता है जो उतने ही समय के लिए गोरा दिखाता हैं जितने समय तक उसे लगाते हैं. थोड़े समय के लिए नही बल्कि हमे लंबा चलना हैं आज हम आपको गोरा होने का घरेलू उपाय, चेहरा गोरा कैसे करे, चेहरे पर चमक कैसे लाये gora hone ke upay बताएंगे जो आपको लंबे समय तक खूबसूरती देंगे. ये घरेलू उपाय अपनाने के बाद आपका चेहरा दमकने लगेगा. 1. सबसे पहली बात, दिन में जितना हो सके पानी पिएं. ज्यादा पानी पीने से चेहरे पर चमक आती हैं. ये आजमाया हुआ हैं. 2. कच्चे आलू को काटकर चेहरे पर मलें. इसे थोड़ी देर बाद हल्के गर्म पानी से धो लें. ऐसा करने से चेहरे के सारे दाग़ धब्बे साफ हो जाते हैं, और आपकी त्वचा निखर जाएंगी. 3. आंवले का मुरब्बा रोज खाने से दो-तीन महीने में ही रंग निखरने लगता हैं. 4. चेहरे पर दही का मास्क लगा ले और सूखने के बाद दूध से धो ले। दूध और दही चेहरे को गोरा बनाकर कुदरती निखार लाते है..
March 26, 2019

How to Lose Weight in Hindi । मोटापा घटाने के उपाय

How to Lose Weight in Hindi – मोटापा घटाने के उपाय / वजन घटाने के तरीके – Weight loss tips in hindi मोटापा पेट कम कैसे करे एक ऐसा topic है जिस पर जितने लोगों से बात करोगे उतनी ही सलाह मिलेगी. यदि आप वजन कम करने के लिए बहुत मेहनत नहीं कर पाते हैं तो आज हम आपको How to Reduce weight in Hindi वजन कैसे घटाएँ लेख में कुछ weight loss करने के कुछ tips [in hindi] बताएंगे. जो पेट की चर्बी कम करने में सहायक सिद्ध होंगे. 1. हर रोज सुबह खाली पेट नींबू, शहद और गर्म पानी पीने से आपकी स्किन भी साफ रहेगी और मोटापा भी दूर रहेगा. 2. हर रोज दो गिलास तरबूज का जूस पीने से आठ सप्ताह में पेट के आस-पास की चर्बी घट जाती हैं. 3. अगर आप चाय के शौकिन है तो बिना चीनी की ग्रीन टी पियें, ये झुर्रियों को और मोटापे को कम करेगी. 4. धनियें का जूस पीने से किडनी तो ठीक रहती ही हैं साथ में पेट भी कम होता हैं. 5. उबला हुआ सेब सेहत के लिये बहुत अच्‍छा होता है। इससे आपको फाइबर मिलेगा और आयरन भी। इसे पचाने में भी आसानी होती है और मोटापा भी घटता हैं. 6. गोभी की सब्जी़ या उसके सूप को अपने भोजन में शामिल कर लें, इससे वज़न कम..
March 25, 2019

Himalaya Origin Tethys Sea Description Ramayana Geology Validates

The Himalaya mountain is relatively of recent origin. It rose out of Tethys Ocean which is described as lying north of where Himalayas is now. This description is found in Kishkindha Kanda of Ramayan, one of the Ithihasas of India. When Sugreeva directs his army to search for Sita, who was abducted by Ravana, he directs them by explaining the Geographical features of each land. In this context, the reference to Tethys Sea found. This also fits in with Lemria continent description found in Ancient Tamil texts. Pangea continent with modern countries names Please read my articles on Lemuria, Tamils. ‘On passing beyond that mountain in Uttara Kuru, there is a treasure trove of waters, namely vast of Northern Ocean, in the mid of which there is gigantic golden mountain named Mt. Soma. The sloka tam atikramya shailendram uttaraH paysaam nidhiH | tatra soma girir naama madhye hemamayo mahaan || 4-43-53 53. tam shailendram atikramya = that, mountain, the best, on passing beyond; uttaraH paysaam nidhiH= north, waters, treasure trove of – vast of Northern Ocean is there; tatra madhye= in its, midst; hema mayaH= completely golden one; mahaan= a gigantic one; soma giriH naama= Soma, mountain, named; mountain is there. “On passing beyond that mountain in Uttara Kuru, there is a treasure trove of waters, namely vast of Northern Ocean, in the mid of which there is gigantic golden mountain named Mt. Soma. [4-43-53] Valmiki Ramayan Kishkindha kanda Sarga 43 ‘ 225 million years ago (Ma) India was a large island situated off the Australian coast and separated from Asia by the Tethys Ocean. The supercontinent Pangea began to break up 200 Ma and India started a northward drift towards Asia. 80 Ma India was 6,400 km south of the Asian continent but moving towards it at a rate of between 9 and 16 cm per year. At this time Tethys Ocean floor would have been subducting northwards beneath Asia and the plate margin would have been a Convergent oceanic-continental one just like the Andes today. https://www.geolsoc.org.uk/css/ks4/media/india.mp4 As seen in the animation above not all of the Tethys Ocean floor was completely subducted; most of the thick sediments on the Indian margin of the ocean were scraped off and accreted onto the Eurasian continent in what is known as an accretionary wedge (link to glossary). These scraped-off sediments are what now form the Himalayan mountain range. From about 50-40 Ma the rate of northward drift of the Indian continental plate slowed to around 4-6 cm per year. This slowdown is interpreted to mark the beginning of the collision between the Eurasian and Indian continental plates, the closing of the former Tethys Ocean, and the initiation of Himalayan uplift. (Note that in the above animation the continental plates are shown to collide at 10 Ma; this should instead read 50 Ma.) The Eurasian plate was partly crumpled and buckled up above the Indian plate but due to their low density/high buoyancy neither continental pla..
March 25, 2019

Philosophy Religion Hinduism Facts

Religion and Philosophy have specific responsibilities,and the responsibilties some times overlap. Philosophy attempts to answer questions that are not attempted to be answered by other disciplines, like Science. However the answers are not complete. And at times one prefers to have the questions unanswered! Because the answers are not comfortable to live with,they are scary, they defy imagination ,challsnge logic. Like ,Death. One who studies/ed Philosophy,ends up with not all answers,at times with more questions than before. But he comes to know more than before,that is more than when he started. He comes to know that knowledge is not Absolute,but Relative; Perceptions change the Perceiver and the Perceived,; there is nothing that is not but A Perspective; Truth is not single dimensional; Truth is self contradictory when perceived by different people or when perceived by an individual at diffetent times,; Time and Space are Relative; Causality is only a tool of the Mind; so is the Law of Uniformity of Nature; Reality is a Principle; There is a mixture of Determinism and Free Will in Human Life; Infinity is a Positive concept; Death is a Stage of Life… Yet Philosophy is not too sure. Philosophy is Learned Ignorance. Philosophy is honest. It does not ask you to assume principles to be True nor does it say that its Axioms are not to be questioned. It invites you to question the Axioms. Philosophy is earnest in attempting to answer unanswerable questions, provides clarity in Thinking. Whatever be the conclusions or Uncertainties ,One gets some idea about things as they are and above all one realizes that what one knows is negligible and things are not what they are or what they seem to be. Now to Religion, In my view Religion is more Personal than Philosophy. Philosophy is abstract,more general and it is not individual specific. While Philosophy addresses it self to Universal Generic Issues like Perception,Law of Causality, Origin of the Universe,Proof for the existence of Self,External world,Ethics….. Religion addresses issues faced by individuals. One may be sick,anxious about future,employment opportunities,Issues concerning children. And one needs a shoulder to cry upon. And one is not botheted about Logic,when one tries to find a solution for his problems. Anxiety about future. Fear of Death. When one faces myriad of Pfoblems in Life,which one can not anticipate or solve,when all efforts are expended,one is left with a set of beliefs. This could be worship of God. Recitation of Mantra,Prayer. It could even be gibberish. So long it delivers results,it is valid and is accepted. Whether what is espounded in Religion is true or pure ficton, so long as it alleviates suffering and comforts the individual ,Religion has served its purpose. To continue the religion is the preregorative of the indovidual. Unfortunately some Religions believe that their Religion gains respectability if it gets more followers. ..

PAURANIK KATHA


March 27, 2019

विज्ञान भैरव तंत्र विधि–107 (ओशो)

दूसरी विधि: ‘यह चेतना ही प्रत्‍येक प्राणी के रूप में है। अन्‍य कुछ भी नहीं है।’ अतीत में वैज्ञानिक कहा करते थे कि केवल पदार्थ ही है और कुछ भी नहीं है। केवल पदार्थ के ही होने की धारणा पर बड़े-बड़े दर्शन के सिद्धांत पैदा हुए। लेकिन जिन लोगों की यह मान्‍यता थी कि केवल पदार्थ ही है वे भी सोचते थे कि चेतना जैसा भी कुछ है। तब वह क्‍या था? वे कहते थे कि चेतना पदार्थ का ही एक बाई-प्रोडेक्ट है, एक उप-उत्‍पाद है। वह परोक्ष रूप में, सूक्ष्‍म रूप में पदार्थ ही था। लेकिन इस आधी सदी ने एक महान चमत्‍कार होते देखा है। वैज्ञानिकों ने यह जानने का बहुत प्रयास किया कि पदार्थ क्‍या है। लेकिन जितना उन्‍होंने प्रयास किया उतना ही उन्‍हें लगा कि पदार्थ जैसा तो कुछ भी नहीं है। पदार्थ का विश्‍लेषण किया गया और पाया कि वहां कुछ नहीं है। अभी सौ वर्ष पूर्व नीत्‍शे ने कहा था कि परमात्‍मा मर गया है। परमात्‍मा के मरने के साथ ही चेतना भी बच नहीं सकती क्‍योंकि परमात्‍मा का अर्थ है समग्र-चेतना। लेकिन इन सौ सालों में ही पदार्थ मर गया। और पदार्थ इसलिए नहीं मरा क्‍योंकि धार्मिक लोग ऐसा सोचते है, बल्‍कि वैज्ञानिक एक बिल..
March 27, 2019

विज्ञान भैरव तंत्र विधि–108 (ओशो)

तीसरी विधि: ‘यह चेतना ही प्रत्‍येक की मार्ग दर्शक सत्ता है, यही हो रहो।’ पहली बात, मार्गदर्शक तुम्‍हारे भीतर है, पर तुम उसका उपयोग नहीं करते। और इतने समय से, इतने जन्‍मों से तुमने उसका उपयोग नहीं किया है। कि तुम्‍हें पता ही नहीं है कि तुम्‍हारे भीतर कोई विवेक भी है। मैं कास्‍तानेद की पुस्‍तक पढ़ रहा था। उसका गुरु डान जुआन उसे एक सुंदर सा प्रयोग करने के लिए देता है। यह प्राचीनतम प्रयोगों में से एक है। एक अंधेरी रात में, पहाड़ी रास्‍ते पर कास्‍तानेद का गुरु कहता है, तू भीतरी मार्गदर्शक पर भरोसा करके दौड़ना शुरू कर दे। यह खतरनाक था। यह खतरनाक था। पहाड़ी रास्‍ता था। अंजान था। वृक्षों झाड़ियों से भरा था। खाइयां भी थी। वह कहीं भी गिर सकता था। वहां तो दिन में भी संभल-संभलकर चलना पड़ता था। और यह तो अंधेरी रात थी। उसे कुछ सुझाई नहीं पड़ता था। और उसका गुरू बोला, चल मत दौड़। उसे तो भरोसा ही न आया। यह तो आत्‍महत्‍या करने जैसा हो गया। वह डर गया। लेकिन गुरु दौड़ा। वह बिलकुल वन्‍य प्राणी की तरह दौड़ता हुआ गया और वापस आ गया। और कास्‍तानेद को समझ नहीं आया कि वह कैसे दौड़ रहा था। और न केवल वह दौड़..
March 27, 2019

विज्ञान भैरव तंत्र विधि–109 (ओशो)

पहली विधि: अपने निष्‍क्रिय रूप को त्‍वचा की दीवारों का एक रिक्‍त कक्ष मानो—सर्वथा रिक्‍त। अपने निष्‍क्रिय रूप को त्‍वचा की दीवारों का एक रिक्‍त कक्ष मानो—लेकिन भीतर सब कुछ रिक्‍त हो। यह सुंदरतम विधियों में से एक है। किसी भी ध्‍यानपूर्ण मुद्रा में, अकेले, शांत होकर बैठ जाओ। तुम्‍हारी रीढ़ की हड्डी सीधी रहे और पूरा शरीर विश्रांत, जैसे कि सारा शरीर रीढ़ की हड्डी पर टंगा हो। फिर अपनी आंखें बंद कर लो। कुछ क्षण के लिए विश्रांत, से विश्रांत अनुभव करते चले जाओ। लयवद्ध होने के लिए कुछ क्षण ऐसा करो। और फिर अचानक अनुभव करो कि तुम्‍हारा शरीर त्‍वचा की दीवारें मात्र है और भीतर कुछ भी नहीं है। घर खाली है, भीतर कोई नहीं है। एक बार तुम विचारों को गुजरते हुए देखोंगे, विचारों के मेघों को विचरते पाओगे। लेकिन ऐसा मत सोचो कि वे तुम्‍हारे है। तुम हो ही नहीं। बस ऐसा सोचो कि वे रिक्‍त आकाश में घूम हुए आधारहीन मेध है, वे तुम्‍हारे नहीं है। वे किसी के भी नहीं है। उनकी कोई जड़ नहीं है। वास्‍तव में ऐसा ही है: विचार केवल आकाश में धूमते मेघों के समान है। न तो उनकी कोई जड़ें है, न आकाश से उनका कोई संबंध है। वे ..
March 27, 2019

विज्ञान भैरव तंत्र विधि–110 (ओशो)

दूसरी विधि: ‘हे गरिमामयी, लीला करो। यह ब्रह्मांड एक रिक्‍त खोल है जिसमें तुम्‍हारा मन अनंत रूप से कौतुक करता है।’ यह दूसरी विधि लीला के आयाम पर आधारित है। इसे समझे। यदि तुम निष्‍क्रिय हो तब तो ठीक है कि तुम गहन रिक्‍तता में, आंतरिक गहराइयों में उतर जाओ। लेकिन तुम सारा दिन रिक्‍त नहीं हो सकते और सारा दिन क्रिया शून्‍य नहीं हो सकते। तुम्‍हें कुछ तो करना ही पड़ेगा। सक्रिय होना एक मूल आवश्‍यकता है। अन्‍यथा तुम जीवित नहीं रह सकते। जीवन का अर्थ ही है सक्रियता। तो तुम कुछ घंटों के लिए तो निष्‍क्रिय हो सकते हो। लेकिन चौबीस घंटे में बाकी समय तुम्‍हें सक्रिय रहना पड़ेगा। और ध्‍यान तुम्‍हारे जीवन की शैली होनी चाहिए। उसका एक हिस्‍सा नहीं। अन्‍यथा पाकर भी तुम उसे खो दोगे। यदि एक घंटे के लिए तुम निष्‍क्रिय हो तो तेईस घंटे के लिए तुम सक्रिय होओगे। सक्रिय शक्‍तियां अधिक होंगी और निष्‍क्रिय में जो तुम भी पाओगे वे उसे नष्‍ट कर देंगे। सक्रिय शक्‍तियां उसे नष्‍ट कर देंगी। और अगल दिन तुम फिर वही करोगे: तेईस घंटे तुम कर्ता को इकट्ठा करते रहोगे और एक घंटे के लिए तुम्‍हें उसे छोड़ना पड़ेगा। यह कठिन होगा।..