Aghori

May 23, 2018
अरुण देवता का विनता के पुत्र और गरुड़ के ज्येष्ठ भ्राता के रूप में उल्लेख हुआ है। पौराणिक कल्पना के अनुसार यह 'पंगु' अर्थात् पाँवरहित हैं। प्राय: सूर्य मंदिरों के सामने अरुण-स्तम्भ स्थापित किया जाता है। इसका भौतिक आधार है, सूर्योदय के पूर्व अरुणिमा (लाली)। इसी के रूपक का नाम 'अरुण' है।

Kya aap Garud Dev ke Janam ka Rahasya Jante hai

आप सब गरुड़ देव को तो जानते होंगे पर उनके जनम और उनकी माता पिता के बारे में बहुत काम लोग जानते है हम आज उसी […]
April 19, 2018
Havan Kya Hai Rudra havan pooja Navagraha havan Nakshatra havan Maha mrityunjaya havan Sudarshan havan Saraswati havan Lakshmi Narasimha havan Lakshmi Narayana Havan Subrahmanya havan

Havan Kya Hai, Hindu Havan – An Ancient Fire Ritual

Hinduism has extremely precious rituals and vidhis associated with its existence. Every ritual framed has highly advanced beneficiary methodologies associated. Havan is seen to be the […]
April 5, 2018
रात्री का वैज्ञानिक रहस्य | aghori ku ratri me puja- arte hai - Gyanyog

आप नहीं जानते होंगे रात्री का वैज्ञानिक रहस्य क्या है ?

रात्रि का वैज्ञानिक और आध्यात्मिक रहस्य क्या है ???……. नवरात्र शब्द से नव अहोरात्रों (विशेष रात्रियां) का बोध होता है। इस समय शक्ति के नव रूपों […]
March 8, 2018
क्या-है-तांत्रिक-मंदिरों-और-काली-पूजा-का-विज्ञान

क्या है तांत्रिक मंदिरों और काली पूजा का विज्ञान?

हिमालय में केदारनाथ के रास्ते में एक बहुत ही शक्तिशाली तांत्रिक मंदिर है : भैरवेश्वर मंदिर। ‘ईशा सैक्रेड वाक्स’ द्वारा हर साल हिमालय यात्रा का आयोजन […]