September 4, 2018
shiv-aur-shani-ki-dasha

नहीं बच सके भगवान भी शनिदेव से.. भोलेनाथ शिव को लगी शनि की दशा, पढ़ें कथा

पौराणिक कथा के अनुसार एक समय शनि देव भगवान शंकर के धाम हिमालय पहुंचे। उन्होंने अपने गुरुदेव भगवान शंकर को प्रणाम कर उनसे आग्रह किया,” हे प्रभु! मैं कल […]
September 4, 2018
सोमवार : सोमवार का दिन भगवान शंकर का दिन होता है तथा इस वार का स्वामी ग्रह चंद्रमा हैं।

वार अनुसार लगाएं ये 7 तिलक, चमक जाएंगे आपकी किस्मत के सितारे

ति‍लक केवल मस्तक की शोभा ही नहीं बढ़ाता, बल्कि आपको ऊर्जा भी देता है। ज्योतिष अनुसार यदि वार अनुसार तिलक धारण किया जाए तो उक्त वार […]
September 4, 2018
jagannath-puri-ke-13-rahasyamayi-bate

जगन्नाथ पुरी मंदिर की 13 आश्चर्यजनक बातें, आप भी जानिए

पुरी का जगन्नाथ मंदिर भक्तों की आस्था केंद्र और विश्वभर में प्रसिद्ध है। यह हिन्दुस्तान ही नहीं, बल्कि विदेशी श्रद्धालुओं के भी आकर्षण का केंद्र है। […]
August 25, 2018
Batuk Bhairav Beej MantraBhairav Bhoot Birthday Chittorgarh Devi Mantra Dhyan Friends Ganesh Gayatri GhostHanuman Hindi jyotish Kali

Batuk Bhairav

Batuk Bhairav Beej MantraBhairav Bhoot Birthday Chittorgarh Devi Mantra Dhyan Friends Ganesh Gayatri GhostHanuman Hindi jyotish Kali Maakaran Kumbhkaran MahabharatMantra Mantras NavratriOSHO Parshuram Puja Vidhi RadhaRahasya Ram Ramayan rudraksh SadhnaShakti Shani Dev shiv Shri KrishanSudarshana Tandav Stotram Tantrik MandirVigyan Bhairav WHALEY HOUSE Yoga Yog Nidra महर्षि भृगु शिवपुराण  The Aghoris are one of the principal Indian traditions and the most extreme […]
August 24, 2018
किसी भी सैद्धांतिक साधना के लिए साधक को न्यूनतम डेढ़ से दो घंटे तक के स्थिर आसन पर पूर्ण एकाग्रता व साधना काल में ब्रह्मचर्य का अभ्यास होना अनिवार्य होता है !

कौन होते हैं अघोरी

भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है। अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना […]

भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है।

अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में मुख्य रूप से भगवान शिव की पूजा का विधान है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पूजा के दो तरीके बताए गए हैं पहला है सात्विक व दूसरा तामसिक। सात्विक पूजा के अंतर्गत भगवान शिव की पूजा फल, फूल, जल आदि से की जाती है। वहीं तामसिक पूजा के अंतर्गत तंत्र-मंत्र आदि से शिव को प्रसन्न किया जाता है।