भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है।

अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में मुख्य रूप से भगवान शिव की पूजा का विधान है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पूजा के दो तरीके बताए गए हैं पहला है सात्विक व दूसरा तामसिक। सात्विक पूजा के अंतर्गत भगवान शिव की पूजा फल, फूल, जल आदि से की जाती है। वहीं तामसिक पूजा के अंतर्गत तंत्र-मंत्र आदि से शिव को प्रसन्न किया जाता है।
February 3, 2018
why ladies use sindoor

हिन्दू महिलाएं मांग में सिंदूर को लगती है vaigyanik or adhyatmik karan

हिन्दू महिलाये मांग में सिंदूर को लगती है । वैज्ञानिक कारण ब्रम्हरनध ओर अधिम नमक मर्म स्थान के ठीक ऊपर सिंधुर लगती है जिसको मांग भी […]
February 1, 2018
Sita Ram Mooji music

Sita Ram Mooji music

January 31, 2018
shiv-shambhu-gyanyog.net

Shiv Shambhu Mooji Music

January 30, 2018
tantra sutra vidhi 3 in hindi

Tantra Sutra Vidhi 3 OSHO

या जब कभी अंत: श्वास और बहिर्श्‍वास एक दूसरे में विलीन होती है, उस क्षण में ऊर्जारहित, ऊर्जापूरित केंद्र को स्‍पर्श करो। विज्ञान भैरव तंत्र–ध्‍यान विधि–03–ओशो […]
January 23, 2018
what happens after death in hindu religion

what happens after death in hindu religion

Death is one truth that no one can deny. After death there is a belief of heaven and hell. As per Puranas, those who do good […]