March 18, 2018

Navratri Ke 9 Mantra In Hindi

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम् ।। पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च ।सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम् ।। नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः ।। Prathamam Shailputri ch dwitiyam brahmcharini. Tritiyam Chandrghanteti Kushmandeti Chaturthakam. Panchamam Skandmateti Shashtam Katyayniti ch. Saptamam Kalratri Maha Gauri ch Ashtmam. Navmam Sidhidatri ch […]
March 8, 2018
क्या-है-तांत्रिक-मंदिरों-और-काली-पूजा-का-विज्ञान

क्या है तांत्रिक मंदिरों और काली पूजा का विज्ञान?

हिमालय में केदारनाथ के रास्ते में एक बहुत ही शक्तिशाली तांत्रिक मंदिर है : भैरवेश्वर मंदिर। ‘ईशा सैक्रेड वाक्स’ द्वारा हर साल हिमालय यात्रा का आयोजन […]
March 8, 2018
significance-of-adya-kali-jayanti-1

महाकाली प्रत्यक्ष दर्शन (शाबर मंत्र साधना)

माँ महाकाली के दर्शन प्राप्त करना प्रत्येक साधक का स्वप्न होता है और उनके दर्शन से कोई भी व्यक्ती फिर सामान्य व्यक्ती नही रहेता है.यह तो […]
February 9, 2018
live-streaming

Mahashivratri 2018 live

February 5, 2018
Shri Atmaram Ji Ka Jeevan Charitra

Shri Atmaram Ji Ka Jeevan Charitra Part-1

इनके जन्म की कोई निश्चित तिथि नहीं है । लोगो द्वारा पता चलता है की जब वो 7 या 8 वर्ष के थे तब उनके माता […]

भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है।

अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में मुख्य रूप से भगवान शिव की पूजा का विधान है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पूजा के दो तरीके बताए गए हैं पहला है सात्विक व दूसरा तामसिक। सात्विक पूजा के अंतर्गत भगवान शिव की पूजा फल, फूल, जल आदि से की जाती है। वहीं तामसिक पूजा के अंतर्गत तंत्र-मंत्र आदि से शिव को प्रसन्न किया जाता है।