भगवान शिव को तंत्र शास्त्र का देवता माना जाता है।

अघोरपंथ के जन्मदाता भी भगवान शिव ही हैं। पवित्र श्रावण मास चल रहा है। इस महीने में मुख्य रूप से भगवान शिव की पूजा का विधान है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान शिव की पूजा के दो तरीके बताए गए हैं पहला है सात्विक व दूसरा तामसिक। सात्विक पूजा के अंतर्गत भगवान शिव की पूजा फल, फूल, जल आदि से की जाती है। वहीं तामसिक पूजा के अंतर्गत तंत्र-मंत्र आदि से शिव को प्रसन्न किया जाता है।
December 24, 2017

सूर्य नमस्कार के फायदे और 3 टिप्स

सूर्य नमस्कार सबसे जाने-माने योग अभ्यासों में से एक है। इसका प्रभाव पूरे शरीर पर महसूस किया जा सकता है। लेकिन क्या आध्यात्मिक साधना करने वालों […]
December 24, 2017

Dhyan Yog and Yog Nidra

Dhyan Yog and Yog Nidra ऊँ नमो नारायण जी । ध्यान योग में शांति प्राप्त करने के जितने रास्ते बताये गये हैं । उनमें योग निद्रा […]
December 22, 2017
Shri Ramcharitmanas Ki Sankatmochan Chaupaiyan, श्रीरामचरित मानस की संकटमोचन चौपाइयां, बिस्व भरण पोषन कर जोई। ताकर नाम भरत जस होइ ।।

राम नाम से दूर होंगी साडी परेशानिया जाने कैसे

Shri Ramcharitmanas Ki Sankatmochan Chaupaiyan | अब व्यक्ति को निराश होने की जरूरत नहीं | शास्त्रों में कई उपाय बताए गए हैं जिससे निराशा और सफलता […]
December 20, 2017

Kaali ke Gupt Mantra in hindi

मां काली का ये मंत्र बना देगा शक्तिशाली, हर साधना होगी सिद्ध जिस प्रकार माता काली के स्वरूप और शक्तियां सभी देवताओं से अधिक हैं, ठीक […]
December 16, 2017

Kali Tandav Stotram

  Download   1:– Hung hung kare shavaa rudhe neela niraaja lochane Trailo-keika mukhe devi kalikaavai namostute prathya-leeddha pade ghore munda malaa pralambite kharve lambodare bheeme […]